मात्र औपचारिकता भरी रही जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति (दिशा) की बैठक,उठे वही पुराने मुद्दे,

0
29

रिपोर्ट/मुकेश बछेती

पौड़ी(पहाड़ ख़बरसार)जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति (दिशा) की बैठक सांसद गढ़वाल तीरथ सिंह रावत की अध्यक्षता में विकास भवन सभागार में सम्पन्न हुई। सांसद गढ़वाल ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि बरसात के इस मौसम में मोटर मार्गो की देखरेख को उच्च प्राथमिकता पर रखें साथ ही निर्माणाधीन व गतिमान कार्यो को गुणवत्ता के साथ पूरा करना सुनिश्चित करें।

             मंगलवार को आयोजित दिशा बैठक में अधिकारियों द्वारा पूर्व की बैठक में दिये गये निर्देशों की अनुपालन आख्या प्रस्तुत की गयी, जिस पर सांसद गढ़वाल द्वारा संतोष व्यक्त किया गया। सांसद ने एन0एच0, लोनिवि, पीएमजीएसवाई के अधिकारियों को निर्देश दिये कि बरसात के मौसम में मोटर मार्गो को यातायात के लिए सुचारु रखनें युद्व स्तर पर कार्यवाही करना सुनिश्चित करें। उन्होने मोटर मार्ग निर्माण से जुड़े विभागों को निर्देश दिये कि सड़कों के पुश्ते/सुरक्षा दिवारों के टूटने की दशा में उन स्थानों पर रेत व मिटटी से भरे चारकोल ड्रमों को स्थापित करना सुनिश्चित करें ताकि सम्भावित सड़क दुर्घटनाओं रोका जा सके। ग्राम पंचायत स्तर पर बनी पानी की टंकियों में जिवाणु व कीटाणुनाशक दवाओं को नहीं डालने पर समिति के सदस्यों/ब्लॉक प्रमुखों ने जल संस्थान के अधिकारियों को आडे हाथों लिया कहा कि बरसात के मौसम में पानी की टंकियों में क्लोरीन अनिवार्य रुप से डाला जाय। सांसद ने कहा कि बरसात के मौसम में होने वाली अधिकांश बिमारियों का कारण दूषित पानी है, जिसे साफ-सुथरा रखना जल संस्थान विभाग की प्राथमिक जिम्मेदरी है। पौड़ी-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर पौड़ी के निकट बन्द पडे एक स्क्रबर को एनएच की जेसीबी के द्वारा खोलते समय जल संस्थान के 40 पेयजल संयोजन क्षतिग्रस्त होने पर न तो जल संस्थान व न ही एनएच के अधिकारियों द्वारा संज्ञान लिया गया, जिसपर सांसद ने दोनो विभाग के अधिकारियों को अपसी समन्वय से तत्काल पेयजल लाईने ठीक करवाने के निर्देश दिये हैं। प्रमुख बीरौंखाल ने बताया कि लोनिवि बैजरों द्वारा वर्ष 2005 के बाद क्षेत्र में हुए सड़क निर्माण का मुआवजा नहीं दिया गया है, जिसपर सांसद गढ़वाल ने लोनिवि के अधिकारियों को क्षेत्र के ऐसे प्रभावितों को चिन्हित करते हुए मुआवजा देना सुनिश्चित करें। प्रमुख जयहरीखाल ने बताया कि लैन्सडान के अन्तर्गत पीएमजीएसवाई की डाबखाल-बुलेखा मोटर मार्ग के निर्माण से जुड़े ठेकेदार के फरार होने के कारण आस-पास गांव की श्रमिकों व परचून विक्रेताओं जिनकी दुकानों से राशन आदि उठाया गया था का भुगतान न ठेकेदार द्वारा नहीं किया गया। जिसपर सांसद गढ़वाल ने जिलाधिकारी गढ़वाल को प्रकरण का संज्ञान लेकर आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिये हैं। समिति के सदस्यों ने कहा कि जल जीवन मिशन के तहत बिछायी जा रही पेयजल लाईनों को मानकों के अनुसार नहीं मिट्टी में नहीं दबाने के कारण हावा में लटकते पाईपों से जनवरों को की सम्भावित क्षति सम्बन्धी शिकायत पर सांसद ने जल संस्थान के अधिकारियों को निर्देश दिये कि विभाग को जेजेएम के कार्यो से सम्बन्धित ऐसी जो भी शिकायतें जन प्रतिनिधियों के माध्यम से प्राप्त हो रही है, उसका समाधान करते हुए इसकी सूचना अनिवार्य रुप से सम्बन्धित जनप्रतिनिधि को देना सुनिश्चित करें। इसके अलावा कृषि, उद्यान, पशुपालन, समाज कल्याण, विकास विभाग, पर्यटन आदि विभागों के कार्यो की सीमक्षा की गयी। 

                  बैठक में जिला पंचायत अध्यक्षा शांति देवी, विधायक पौड़ी राजकुमार पोरी, नगर पालिकाध्यक्ष/पूर्व विधायक यशपाल बेनाम, जिलाधिकारी गढ़वाल डॉ आशीष चौहान, सीडीओ अपूर्वा पाण्डे, डीएफओ केएन भारती, पीडी संजीव कुमार रॉय, डीडीओ मनविंदर कौर, ब्लॉक प्रमुख दीपक कुकसाल, महेन्द्र राणा, दीपक भण्डारी, पूर्णिमा देवी, बीना राणा, सीएमओ डॉ प्रवीण कुमार, सीईओ डॉ आनन्द भारद्वाज सहित, जिलाध्यक्ष बीजेपी सुषमा रावत सहित समिति के अन्य सदस्य व अधिकारीगण उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here