Home Blog

एक के बाद दूसरे नया काम शुरू करने की चाह रखते हैं डीएम आशीष चौहान

0

उत्तरकाशी, पिथौरागढ़ व वर्तमान में पौड़ी गढ़वाल में जिलाधिकारी होते हुए अपने कार्यों की एक नई छाप छोड़ी है डॉ. चौहान ने

जिलाधिकारी के इन कार्यों को लोग करते हैं याद
रिपोर्ट/मुकेश बछेती

पौड़ी(पहाड़ ख़बरसार) उत्तराखंड प्रदेश के पौड़ी जिलाधिकारी दृढ़ इच्छाशक्ति से लबरेज आईएएस डॉ. आशीष चौहान आए दिन सुर्खियों में रहते है और ये सुर्खिया कुछ और नहीं बल्कि जन सरोकारों से जुड़ी सुर्खिया होती है जब उत्तरकाशी के जिलाधिकारी थे तो ग्रंतांगली जैसा ट्रेक खोज निकाला जिस पर आज देश विदेश के पर्यटक चलकदमी करते है। उसके बाद जब पिथौरागढ़ के डीएम थे तो बेडू का अचार मुरब्बा में मातृ शक्ति को जागरूक कर स्वावलंबी बनाने की ठान ली, गूंजी जैसे दर्शनीय और ऐतिहासिक स्थान को विकसित करने की ठान ली और अब पौड़ी के जिलाधिकारी है तो आए दिन कुछ न कुछ नया करने की सोच ली और इसी सोच को आगे बढ़ाते हुए जिलाधिकारी गढ़वाल डॉ. आशीष चौहान द्वारा ब्यासघाट-यमकेश्वर पौराणिक पैदल मार्ग पर पड़ने वाला पड़ाव कोटलीभेल (महादेवचट्टी) में लकड़ी का पुल के स्वरूप में विकसित किया, जहाँ आज देश-दुनिया के लोग वहाँ उसे देखने के लिए आते हैं। उसके बाद उन्होंने पिथौरागढ़ जैसे बेडू के अचार व चटनी को भी पौड़ी में शुरू किया। जहाँ आज कई महिलाओं को स्वरोजगार मिल रहा है। उसके बाद उन्होंने चीड़ के बीच (चेंता) की ओर कदम बढ़ाया। जिसकी आगे की कार्यवाही की जा रही है।


अब उन्होंने जनपद पौड़ी में स्थित ऐतिहासिक स्थल देवलगढ़ का स्थलीय निरीक्षण किया गया तथा देवलगढ़ को देवलगढ़ केव्स (गुफाएं) के नाम से विकसित करने का संकल्प लिया गया।

इस दौरान जिलाधिकारी ने पंवार वंश की कुलदेवी राजराजेश्वरी देवी और मां दुर्गा के प्राचीन मंदिर , पंवार वंश के राजाओं के निवास तथा देवलगढ़ की ऐतिहासिक गुफाओं का भी अवलोकन किया।इस दौरान जिलाधिकारी द्वारा गुफा में स्वयं उतरकर उसका अवलोकन भी किया। अवलोकन के दौरान उन्होंने कहा कि देवलगढ़ को देवालगढ़ केव्स के नाम से विकसित किया जाएगा। इसके लिए वन विभाग, पर्यटन विभाग, संस्कृति विभाग और अन्य संबंधित विभागों के समन्वय से कार्ययोजना तैयार की जाएगी।

कुल मिला कर काम और काम का नाम है डॉक्टर आशीष चौहान जो वातानुकूलित कक्ष को छोड़ प्राकृतिक आवोहवा के बीच रहना और कार्य करना पसंद करते हैं।

राज्यपाल द्वारा बेस चिकित्सालय श्रीकोट में किया गया कार्डियक कैथ लैब का लोकार्पण,पहाड़ की स्वास्थ्य सुविधाओं के सम्बंध में बताया मील का पत्थर

0

रिपोर्ट/मुकेश बछेती

कैबिनेट मंत्री डॉ0 धन सिंह रावत व सांसद अनिल बलूनी ने भी बताया कि लैब बनने से हृदय रोगियों को बड़े शहरों की ओर नही करनी पड़ेगी भाग दौड़।

राज्यपाल ने किया मेड़िकल कालेज़ की उमंग स्मारिका का लोकार्पण

श्रीनगर(पहाड़ ख़बरसार)उत्तराखंड के महामहिम राज्यपाल (ले0 जन0 रिटा.) गुरमीत सिंह ने राजकीय मेडिकल कॉलेज बेस चिकित्सालय में जन चिकित्सा सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए बनाई गई कार्डियक कैथ लैब जनता को समर्पित की। उन्होंने 6 करोड़ 35 लाख की लागत से बने कार्डियक कैथ लैब का लोकापर्ण किया। इस दौरान गढ़वाल सांसद अनिल बलूनी व चिकित्सा शिक्षा एवं चिकित्सा स्वास्थ्य मंत्री धन सिंह रावत भी उपस्थित रहे। बेस चिकित्सालय में कैथ लैब लोकापर्ण के बाद मुख्य कार्यक्रम मेडिकल कॉलेज के प्रेक्षागृह में आयोजित किया गया। उन्होंने कार्यक्रम का शुभारंभ दीप जलाकर किया गया।

इसके उपरांत उन्होंने मेडिकल कॉलेज के प्रेक्षागृह में आयोजित कार्यक्रम में वहाँ उपस्थित लोगों को सम्बोधित किया। इस दौरान उन्होंने मेडिकल कॉलेज की उमंग स्मारिका का शुभारंभ भी किया। कार्यक्रम के समापन के बाद उन्होंने हरेला पर्व के तहत मेडिकल कॉलेज परिसर में रुद्राक्ष का पौधा भी रोपा।

 वीर चन्द्र सिंह गढवाली राजकीय आयुर्विज्ञान एवं शोध संस्थान, श्रीनगर गढ़वाल में कैथ लैब के लोकार्पण पर अयोजित कार्यक्रम में महामहिम राज्यपाल ले. ज. (रि.) गुरमीत सिंह ने कहा कि प्रदेश के पर्वतीय क्षेत्र में स्थित वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली गवर्नमेंट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज के तृतीय रेफरल हॉस्पिटल में पहली बार कैथ लैब सुविधा का शुभारम्भ हो रहा है, मुझे पूरा भरोसा है कि यह पर्वतीय जिलों में रहने वाले लगभग 20 लाख से अधिक आबादी के साथ-साथ ही चारधाम व हेमकुण्ड साहिब के दर्शन हेतु पधारने वाले लाखों श्रद्वालुओं के लिए अवश्य ही लाभकारी होगा।

  उन्होंने कहा कि राज्य की स्वास्थ्य सेवाओं में अपना सक्रिय योगदान देने वाले सभी जन प्रतिनिधियों, अधिकारियों, चिकित्सकों एवं स्वास्थ्य कर्मियों का आभार प्रकट करता हूँ जिनके निरंतर प्रयासों एवं सहयोग से आज यह पहाड़ी क्षेत्र इस उपलब्धि तक पहुँच सका है। उन्होंने गढ़वाल क्षेत्र के दुर्गम एवं अति दुर्गम स्थानों में निवास करने वाले सभी लोगों की स्वास्थ्य आवश्यकताओं की पूर्ति कर रहे इस संस्थान को कैथ लैब सुविधा के शुभारम्भ के लिए हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी। कहा कि आगामी समय में यह संस्थान न केवल इस सुविधा का लाभ क्षेत्र के निवासियों को बल्कि सर्विस एक्सीलेंस को भी बनाए रखेगा साथ ही अधिक से अधिक विकसित होगा।

उन्होंने कहा कि किसी हेल्थ इंस्टीट्यूशन के ओवरऑल सफलता के कई महत्वपूर्ण आधार होते हैं। जिनमें सेवाभाव, कार्य दक्षता, आपसी सहयोग, कर्तव्य निष्ठा एवं विकसित होते रहने की विल पॉवर उस संस्थान की सफलता के प्रमुख आधार स्तम्भ होते हैं। जब भी हम विश्व या देश के अग्रणी एवं श्रेष्ठतम् संस्थानों को देखते हैं तो हम पाते हैं कि उत्कृष्टता को बनाये रखने के लिए उनमें कार्य करने वाले समस्त सदस्यों के बीच बहुत अच्छी हार्मनी एवं परिश्रम की भावना होती है। देवभूमि के राज्यपाल के रूप में जब मुझे ऐसे दृश्य देखने को मिलते हैं तो मुझे अंदर से खुशी की अनुभूति होती है।

उन्होंने कहा कि हृदय और संचार संबंधी रोग एक वैश्विक स्वास्थ्य चुनौती बन गए हैं और लगातार हाइपर टेंशन, स्ट्रोक, कोरोनरी आरटरी डिजीज व्यापक रूप से बढ रही है। छोटी उम्र में भी यह बीमारी परेशानी का कारण बन रही है। उन्होंने कहा कि आज देशभर में जन औषधि केंद्रों का विस्तार बढ़कर 10,000 से अधिक इकाइयों का हो गया है। पिछले 10 वर्षों में अलग-अलग राज्यों में 10 नए एम्स स्वीकृत किए गए हैं। देश में जिनकी संख्या अब 24 हो गई हैं। राजयपाल ने कैबिनेट मंत्री डा० धन सिंह रावत को चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य, अभिनव प्रयोग, त्वरित निर्णय क्षमता, तथा अन्तिम छोर के व्यक्ति तक स्वास्थ्य ही नहीं अपितु शिक्षा सेवाओं को पहुंचाने के लिए बधाई देते हुए अनुकरणीय नेतृत्व की सराहना की। महामहिम राज्यपाल ने सांसद गढ़वाल अनिल बलूनी का उनके अभिनव प्रयोग की प्रशंसा करते हुए कहा कि मुझे आशा ही नही अपितु पूर्ण विश्वास है कि आप गढ़वाल सांसद रहते हुए उत्तराखण्ड को अवश्य ही नई उचांइयों पर ले जाएंगे।

उन्होंने कहा कि मुझे इस बात की बेहद खुशी है कि यहां के पासआउट विद्यार्थी देश-विदेश में राज्य व देश का नाम रोशन कर रहें हैं, जो हमारे लिए गर्व की बात है। मैं आपको भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूँ एवं कुशल नेतृत्व की सराहना भी करता हूँ।

कार्डियक लैब के लोकार्पण कार्यक्रम में कैबिनेट मंत्री डॉ0 धन सिंह रात में कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य किया जा रहे हैं, कहा के पिथौरागढ़ में मेडिकल कॉलेज एक वर्ष के भीतर तैयार हो जाएगा। अस्पतालों में प्रतिदिन लगभग 3700 लोग ओपीडी में आते हैं सरकार ने ओपीडी का पर्चा 29 रुपए से घटाकर 20 रुपए करने का निर्णय लिया है, अब एक प्रदेश एक पर्चा के तहत किसी भी अस्पताल का पर्चा अन्य अस्पताल में भी चलेगा।
उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार में 5 लाख रुपए तक का मुक्त इलाज आयुष्मान योजना के तहत दिया जा रहा है, स्वास्थ्य विभागों की सभी फैकल्टी को 100% तक करने का निर्णय लिया है। कहा कि 15 अगस्त को प्रदेश सरकार एयर एंबुलेंस योजना का शुभारंभ करेंगी जिससे प्रदेश के दूरस्थ क्षेत्रों के निवासियों को लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में मेडिकल से कोई डॉक्टर पोस्ट ग्रेजुएट (PHD)करता है तो उसे 2 साल के लिए उत्तराखंड में अनिवार्य नौकरी करनी होगी अगर कोई नौकरी छोड़ता है तो उसे ढाई करोड रुपए का जुर्माना देना होगा इस तरह का प्रावधान करने को कहा। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि मेडिकल कॉलेज में हॉस्टल में सभी व्यवस्थाएं राज्य सरकार के द्वारा पूर्ण की जाएगी साथ ही शिकायत पेटी भी रखी जाएगी।

कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि गढ़वाल सांसद अनिल बलूनी ने कहा कि श्रीनगर में इस लैब के बन जाने से पहाड़ की जनता को बड़े शहरों में नहीं भागना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि राज्यसभा सांसद रहते हुई मैंने सांसद निधि से पर्वतीय क्षेत्रों में आईसीयू का निर्माण करवाया जोकि कोविड महामारी में वरदान साबित हुआ। कहा कि पलायन से घोस्ट विलेज बन रहे पहाड़ों को पुनः आबाद करना है। उन्होंने कहा कि अस्पतालों में स्थापित जन जन औषधि केद्रों में सस्ती दवाएं दी जा रही है जिससे लोगों को सस्ता इलाज उपलब्ध हो पा रहा है।

कार्यक्रम में चिकित्सा शिक्षा निदेशक आशुतोष सयाना, जिलाधिकारी डॉ. आशीष चौहान, एसएसपी लोकेश्वर सिंह, मेडिकल प्राचार्य डॉ. सीएमएस रावत, संयुक्त मजिस्ट्रेट मनामिका, कार्डियोलॉजी विभागाध्यक्ष दून मेडिकल कॉलेज डॉ. अमर उपाध्याय, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. प्रवीण कुमार सहित अन्य अधिकारी व चिकित्सक उपस्थित थे।

सरकार द्वारा आरबीआई के अंतर्गत गढ़वाल मंडल के इनक्यूबेट्स को 42 करोड़ की धनराशि की स्वीकृति

0

ग्रामीण उद्यमशीलता से युवाओं को मिल रहा है रोजगार।

पौड़ी जनपद में 19 इनक्यूबेट्स को लगभग डे़ढ़ करोड़ की धनराशि की स्वीकृति।

रिपोर्ट/मुकेश बछेती

देहरादून/पौड़ी(पहाड़ ख़बरसार) उत्तराखण्ड सरकार द्वारा ग्रामीण उद्यमशीलता को बढावा दिये जाने के उद्देश्य से रूरल बिजनेस इनक्यूबेटर (आरबीआई) एक सहयोगी कार्यक्रम चलाया गया है जो कि नये व्यावसायिक विचारों, नए स्टार्टअप, नैनो उद्यमों वाले युवाओं को उनके व्यावसायिक लक्ष्यों में सफल होने में मदद करने के लिए तैयार किया गया है। यह कार्यक्रम इनक्यूबेट्स को विभिन्न सहायता, सलाह और प्रशिक्षण प्रदान करके उनकी उद्यमशीलता यात्रा को चलाने या शुरू करने से जुड़ी समस्याओं को हल करने में मदद करने के लिए समर्पित है। मण्डल स्तर पर कार्यक्रम की निगरानी व संचालन हेतु कोटद्वार में कार्यालय स्थापित है।
ग्रामीण विकास विभाग उत्तराखण्ड अन्तर्गत संचालित इस कार्यक्रम के माध्यम से आकांक्षी और उद्यमियों को समर्थन और सशक्त बनाना प्रारंभिक चरण की व्यावसायिक संस्थाओं को उनके विचारों को साकार करने में मदद दी जाती हैै साथ ही नए विचारों का पोषण करने, उन्हें टिकाऊ व्यवसायों/स्टार्ट-अप में बदलने के लिए तैयार किया जाता है। कार्यक्रम के अन्तर्गत इनक्यूबेटर को नवाचार मूल्यांकन से लेकर सलाह, कोचिंग और मार्केटिंग तक सहायता उपलब्ध करायी जाती है। इसमें युवाओं के लिए रोजगार के अवसर पैदा करने, सामाजिक रूप से वंचित समूहों (एससी/एसटी/महिला/अल्पसंख्यक) को प्राथमिकता को दिये जाने, एक गतिशील सलाहकार पूल प्रदान करने के साथ-साथ प्रत्येक संभावित व्यावसायिक योजना को सफल बनाने के लिए अनुकूलित योजनाएं और रणनीतियाँ तैयार की जाती है।

इस कार्यक्रम के अन्तर्गत वर्ष 2024 में गढ़वाल मण्डल के 7 जनपदों के इनक्यूबेट्स के अबतक 5673 आवेदन प्राप्त हो चुके है जिनमें से 25 प्रतिशत आवेदन ऑन बोर्डिंग है। 1393 ऑन बोर्ड आवेदनों में से 129 इनक्यूबेट्स पर अबतक सरकार द्वारा कुल 42 करोड़ की धनराशि स्वीकृति की जा चुकी है। जनपद पौड़ी में कुल 880 इनक्यूबेट्स में से 275 ऑन बोर्डिंग है। जिसमें से 19 इनक्यूबेट्स (3 एमएसवाई, 01 पीएमईजीपी, 01-एआईएफ, 03 डीडीजीएवीवाई तथा 11 पीएमएफएमई) आवेदनों पर लगभग 01 करोड़ 40 लाख की धनराशि स्वीकृत की गयी है।

पाबौ ब्लॉक में हेल्पएज संस्था द्वारा निःषुल्क फिजियोथैरेपी सेंटर में की जा रही फिजियोथैरेपी,बीते एक साल में 3 हजार से अधिक लोगों ने उठाया फिजियोथैरेपी का लाभ

0

रिपोर्ट-मुकेश बछेती

पाबौ//आज के वक्त हर उम्र के लोगों को जोड़ों का दर्द, कमर का दर्द और सर दर्द जैसी कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है. उनके लिए फिजियोथेरेपी ट्रीटमेंट रिलीफ देने का काम करता है, लेकिन प्राइवेट फिजियोथैरेपी सेंटर बहुत महंगा चार्ज करते हैं। जनपद पौड़ी के विकासखंड पाबौ में हेल्पएज संस्था ऐसे ही लोगों को निषुक्ल सेवा देने का काम बीते एक साल से कर रही है।

संस्था के प्रोजेक्ट मैनेजर मौषम अंसारी ने बताया कि संस्था द्वारा 15 जुलाई 2023 से निशुल्क फिजियोथैरेपी आमजन को दी जा रही है उन्होंने बताया कि प्रतिदिन दो दर्जन से अधिक लोग उनके सेंटर में फिजियोथेरेपी का लाभ उठा रहे हैं । अंसारी ने बताया कि अब तक 3 हजार 200 से अधिक लोगों ने उनके सेंटर में फिजियोथैरेपी का लाभ उठाया है जिसमे अकेले 1607 महिलाएं शामिल है जबकि क्षेत्र के 1652 पुरुष फिजियोथैरेपी का निशुल्क लाभ उनके सेंटर में ले चुके हैं।

मौषम अंसारी ने कहा कि इसके साथ ही संस्था द्वारा दिव्यांग लोगों को भी उपकरण देकर उनकी सहायता की जा रही है। उन्होंने बताया कि अब तक 100 ऐसी दिव्यांग लोगों को संस्था द्वारा व्हीलचेयर, कमोड, वकार आदि निशुल्क उपलब्ध कराया गया है इसके साथ ही दिव्यांगजनों को आजीविका से जोड़ने के लिए भी उनकी सहायता संस्था द्वारा लगातार की की जा रही है। उन्होंने बताया कि कुछ दिव्यांगजनों को सब्जी की दुकान, राशन की दुकान आदि से जोड़ा गया है जिससे वे बिना किसी के सहारे अपनी जीविका को आसानी से आगे बढ़ा सके। उन्होंने कहा कि भविष्य में भी संस्था द्वारा दिव्यांग जनों को आजीविका से जोड़ने के लिए काम किया जाएगा। उन्होंने बताया कि कोई भी दिव्यांग व्यक्ति आवश्यक उपकरण के लिए उनकी संस्था से संपर्क कर सकता है उन्होंने बताया कि 902792318 2 में संपर्क कर कोई भी व्यक्ति दिव्यांग उपकरण के लिए आवेदन कर सकता है और आवश्यकता के अनुसार संबंधित व्यक्ति को उपकरण संस्था द्वारा निशुल्क उपलब्ध करवाया जाएगा। उन्होंने बताया कि फिजियोथैरेपी सेंटर में फिजियोथैरेपिस्ट डॉ अभिषेक व असिस्टेंट फिजियोथैरेपिस्ट रितिका द्वारा लगातार लोगों को निशुल्क फिजियोथैरेपी दी जा रही है। इस दौरान सुरेंद्र उनियाल भी मौजूद रहे।

पौड़ी में गढ़वाल इंस्टीट्यूट ऑफ पैरामेडिकल साइंसेज का हुआ शुभारंभ

0

रिपोर्ट/मुकेश बछेती

पौड़ी(पहाड़ ख़बरसार) मंडल मुख्यालय पौड़ी के ग्राम क्यार्क में श्री शत चंडी जन कल्याण समिति की ओर से गढ़वाल इंस्टीट्यूट ऑफ पैरामेडिकल साइंसेज का शुभारंभ हो गया है। कॉलेज का शुभारंभ अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. रमेश कुंवर ने विधिवत पूजा-अर्चना के बाद किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि यह समिति की ओर से पैरामेडिकल क्षेत्र में उच्च शिक्षा प्रदान करने का एक सराहनीय कार्य है। जिस तरह से पहाड़ों से लगातार पलायन हो रहा है। उसको देखते हुए संस्था का यह प्रयास लोगों को भी रिवर्स माइग्रेशन के लिए प्रेरित करने का काम करेगा।

क्वालिटी और सस्ती मेडिकल शिक्षा

संस्थान के चेयरमैन कवींद्र इष्टवाल ने इसकी शुरूआत ऑप्टोमेट्री डिप्लोमा कोर्स के साथ ही गई थी, जो अब पैरामेडिकल सांइसेज कोर्सों तक पहुंच गया है। उनका कहना है कि यह कॉलेज उन स्टूडेंट्स को पहाड़ में ही क्वालिटी और सस्ती मेडिकल शिक्षा उपलबब्ध कराएगा, जो गरीबी के कारण बड़े शहरों में नहीं जा पाते हैं। अब उनके सपनांे को भी पंख मिलेंगे और वह भी ऊंची उड़ान भर पाएंगे। उनका यह भी कहना है कि जहां हर कोई एजुकेशन को बिजनस मानकर केवल देहरादून में ही कॉलेज खोलना चाहते हैं। वहीं, उन्होंने पौड़ी को चुना।

लोगों को पलायन करने से रोकने की सोच

इसके पीछे उनकी सोच लोगों को पलायन करने से रोकने की है। उनका लक्ष्य जहां स्टूडेंट्स को सस्ती और क्वालिटी एजुकेशन देने का है। वहीं, रिवर्स माइग्रेशन के लिए भी लोगों को प्रेरित करने का मिशन भी है। इस मौके पर संस्था के महासचिव नृपेश तिवारी, सुरेश बहुगुणा, सुनील थपलियाल, अजय रतूड़ी, संस्थान की समस्त फैकल्टी और स्टाफ उपस्थित रहे।

स्टूडेंट्स मेडिकल फील्ड में कई अन्य कोर्स की मदद से जा सकते हैं

12वीं पास करने वाले बच्चे यहां से आगे करियर चुनने की दिशा में कदम बढ़ाते हैं। वो उन विषयों से प्रोफेशनल कोर्सों में एडमिशन लेते हैं, जहां से उनको अपना करियर भी नजर आता है। मेडिकल के क्षेत्र में जाने की चाहत बहुत से स्टूडेंट्स की होती है। डॉक्टर बनने का सपना तो कई संजोते हें, लेकिन हर कोई नहीं बन पाता है। ऐसे स्टूडेंट्स मेडिकल फील्ड में कई अन्य कोर्स की मदद से जा सकते हैं।

मेडिकल कोर्स के लिए बड़े शहरों का रुख

इन मेडिकल कोर्स को करने के लिए ज्यादातर बच्चे बड़े शहरों देहरादून, हल्द्वानी, ऋषिकेश या दिल्ली को रुख करते हैं। इसके लिए बहुत मंगी फीस भी भरते हैं। अधिकांश का सपना बड़ा शहर ही होता है। लेकिन, मंहगी फीस, कमरे का महंगा किराया हर कोई नहीं दे सकता। ऐसे स्टूडेंट्स पहाड़ में रहकर भी अपने सपने को पूरा कर सकते हैं।

ये कोर्स हो रहे संचालित

गढ़वाल इंस्टिट्यूट ऑफ पैरामेडिकल साइंसेस (Garhwal Institute of Paramedical Sciences-GIPS) आपको बीएससी ऑप्टोमेट्री (B.OPTOM), बैचलर इन फीजियोथेरेपी (BPT), बैचलर इन ऑपरेशन थियेटर टेक्नोलॉजी (BOTT), बैचलर अन रेडियो इमेज टेक्नोलॉजी (BMRIT) और डिप्लोमा इन ऑप्टोमेट्री (DOPTOM) जैसे कोर्स हैं।

सबसे काम फीस

संस्थान आपको पूरे उत्तराखंड में सबसे कम फीस में यह कोर्स करने की मौका देता है। इसके अलावा आप अपनी फीस आसान किस्तों में भी जमा करा सकते हैं। रहने के लिए भी कमरे कम दरों पर उपलब्ध हो जाते हैं। बड़े शहरों का मोह छोड़कर अपने पहाड़ में ही क्यालिटी एजुकेशन मिल रही है।

शुरू हो चुके एडमिशन

कॉलेज में इन दिनों एडमिशन चल रहे हैं। अगर आप भी अपने पसंद के कोर्स में एडमिशन लेना चाहते हैं, तो आप गढ़वाल इंस्टिट्यूट ऑफ पैरामेडिकल साइंसेस की वेबसाइट http://www.garhwalinstitute.in पर ऑनलाइन फार्म भरकर एडमिशन ले सकते हैं। कॉलेज में जाकर भी आप एडमिशन ले सकते हैं। अगर आप भी पहाड़ में रहकर ही पढ़ाई करना चाहते हैं, तो यह आपके लिए अच्छा मौका है।

for online admission form

https://garhwalinstitute.in/admission

website: http://www.garhwalinstitute.in 

call-8273968106

हरिद्वार रिश्वत प्रकरण पर शिक्षा मंत्री डा. रावत ने लिया एक्शन,आरोपी बीईओ को निलम्बित कर सीईओ कार्यालय किया अचैट

0

रिपोर्ट/मुकेश बछेती

हरिद्वार(पहाड़ ख़बरसार)हरिद्वार के खानपुर ब्लॉक में विजीलेंस द्वारा रिश्वत प्रकरण में खंड शिक्षा अधिकारी की गिरफ्तारी का संज्ञान लेते हुये सूबे के विद्यालयी शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने बड़ा एक्शन लिया है। आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी अयाजुद्दीन को तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर सीईओ कार्यालय हरिद्वार में सम्बद्ध कर दिया गया है। साथ ही विभागीय अधिकारियों को जांच के भी निर्देश दे दिये गये हैं। इसके अलावा उन्होंने पौड़ी जनपद के कोट ब्लॉक के पूर्वमाध्यमिक विद्यालय राणाकोट में तैनात शिक्षक के वायरल वीडियो का भी संज्ञान लेकर शराबी शिक्षक के निलम्बित के निर्देश जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी पौड़ी को दे दिये हैं।

सूबे के विद्यालयी शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने बताया कि एक ओर सरकार प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था के सुदृढ़करण में जुटी है वहीं दूसरी ओर कतिपय कर्मचारी विभाग की छवि धूमिल करने से बाज नहीं आ रहे हैं। उन्होंने बताया कि विभाग के अंतर्गत किसी भी प्रकार की अनैतिक गतिविधियां बर्दाश्त नहीं की जायेगी। डा. रावत ने बताया कि हरिद्वार के खानपुर ब्लॉक में विगत शुक्रवार को विजीलेंस द्वारा खंड शिक्षा अधिकारी अयाजुद्दीन को 10 हजार की रिश्वत लेते रंगेहाथों पकड़ लिया था। जिसको तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया गया है। इसके साथ ही आरोपी बीईओ को सीईओ कार्यालय हरिद्वार से सम्बद्ध कर विभागीय जांच के निर्देश भी दे दिये गये हैं।

विभागीय मंत्री डा. रावत ने सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे शराबी शिक्षक सुरेश कुमार नौटियाल के वीडियो का भी संज्ञान लिया है। वायरल वीडियो पौड़ी जनपद का है, जो कोट ब्लॉक के पूर्वमाध्यमिक विद्यालय राणाकोट में सहायक अध्यापक बताया जा रहा है। डा. रावत ने बताया कि शराबी शिक्षक को तत्काल निलम्बित करने के निर्देश जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी पौड़ी को दे दिये गये हैं। साथ ही आरोपी शिक्षक को उप खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय कोट से सम्बद्ध कर विभागीय जांच करने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि दोनों प्रकरणों की जांच गम्भीरता से की जायेगी और आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लायी जायेगी ताकि शिक्षा विभाग के अंतर्गत भविष्य में ऐसी घटनाएं न हो।

पाबौ में भी फलदार व छायादार वृक्षों का रोपण कर दिया गया पर्यावरण संरक्षण का संदेश

0

रिपोर्ट/मुकेश बछेती

पाबौ//हरियाली, शांति, समृद्धि का प्रतीक लोकपर्व हरेला मंगलवार को मनाया गया। इससे पूर्व घर-घर में हरेला पूजन किया गया और उसके बाद पौधे रोपे गए। पाबौ ब्लॉक में भी खंड विकास अधिकारी धूम सिंह व चौकी प्रभारी पाबौ नवीन परोहित द्वारा फलदार, छायादार व औषधीय पौधे रोपे गए। प्रदेश भर में लोकपर्व हरेला हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। सरकारी-गैर सरकारी संस्थाओं के साथ ही गांव गांव में भी पौधरोपण कर पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया गया। इसमें स्कूली छात्र-छात्राओं ने भी बढ़चढ़ कर प्रतिभाग किया।

पाबौ में पौधे रोपने के बाद कम से कम एक साल तक उनकी देखरेख करने का भी संकल्प लिया। इस दौरान बारू दत्त शर्मा, रविंद्र भट्ट,अरुण पोखरियाल, मोनिका,मेनका आदि भी मौजूद रहे।

ब्रेकिंग//हरेला पर्व के अवसर पर अवकाश के बाबजूद विद्यालय में अगर बुलाया गया छात्रों को तो खैर नही-DM पौड़ी

0

रिपोर्ट/मुकेश बछेती

पौड़ी(पहाड़ ख़बरसार) मंगलवार 16 जुलाई को राजकीय कार्यालयों सहित सरकारी व गैर सरकारी शिक्षण संस्थानो में सार्वजनिक अवकाश निर्धारित है। इसके बावजूद जानकारी के अभाव में हरेला पर्व पर कतिपय सरकारी, गैर सरकारी शिक्षण संस्थाओं, आंगनबाड़ी केंद्रों द्वारा अवकाश के दिवस पर छात्रों को स्कूल बुलाया जा सकता है। मौसम विभाग द्वारा जारी भारी वर्षा की चेतावनी को देखते हुए जिला मजिस्ट्रेट डॉ आशीष चौहान द्वारा सभी (सरकारी व गैर सरकारी) शिक्षण संस्थानों को पूर्णतः बंद रखने का आदेश जारी किया गया है।

पूर्व मुख्यमंत्री डॉ निशंक की जन्मदिन के अवसर पर वृक्षारोपण के साथ ही फल वितरण का किया गया आयोजन

0

रिपोर्ट/मुकेश बछेती

पौड़ी(पहाड़ ख़बरसार) पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक के जन्म दिवस के अवसर पर आव्हान संस्था पौड़ी व जिला कार्यकारी अध्यक्ष विश्व हिन्दू परिषद पौड़ी परमानंद चतुर्वेदी के सहयोग से राजमती देवी सरस्वती विद्या मन्दिर तिमली में वृक्षारोपण कर बच्चों को मिठाई का वितरण किया गया। जिसमें विद्यालय के प्रधानाचार्य संजय मंमगाई व सभी अध्यापक मौजूद रहे। जिसके उपरांत जिला अस्पताल पौड़ी में मरीजों को फल वितरण किए गए। आव्हान संस्था की अध्यक्ष व जिला कार्यकारी अध्यक्ष विश्व हिन्दू परिषद पौड़ी परमानंद चतुर्वेदी ने कहा की पूर्व मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक के जन्मदिन के उपलक्ष में आज जिला अस्पताल पौड़ी में फल वितरण सहित तमाम कार्यक्रम आयोजित किए गए। जिसमें बच्चों के साथ युवाओं ने भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया । उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री का कार्यकाल प्रदेश व केंद्रीय शिक्षा मंत्री रहते हुए देश के लिए बहुत ही यादगार रहा।

कार्यक्रम के दौरान सुषमा, मंजू देवी, माधुरी देवी, रोशनी देवी, अंजना देवी,प्रियंका थपलियाल व भाजपा के युवा मोर्चा के रॉबिन, विवेक, नितिन, ऋत्विक, कुश, सूरज,आदि मौजूद रहे।

बिना बताए घर से गई महिला को पाबौ पुलिस ने श्रीनगर से किया सकुशल बरामद

0

रिपोर्ट/मुकेश बछेती

पाबौ//विकासखंड पाबौ के अंतर्गत आने वाले चम्पेश्वर क्षेत्र के एक गांव से बिना बताए अपने दो बच्चों के साथ घर छोड़कर गई महिला को पाबौ पुलिस ने श्रीनगर के श्रीकोट से सकुशल बरामद करने में सफलता हासिल की है। चौकी प्रभारी पाबौ नवीन पुरोहित ने बताया कि बीते दिनों चम्पेश्वर क्षेत्र के एक गांव की ग्रामीण द्वारा चौकी पाबौ में शिकायत दी गई कि उनकी पत्नी दो बच्चों साथ कहीं लापता हो गई है महिला संबंधित मामला होने के मध्यनजर पाबौ पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए महिला की खोज में शुरू की। जिसके बाद सुराग के आधार पर पुलिस द्वारा उक्त महिला की लोकेशन श्रीनगर के श्रीकोट में दिखाई दी। जिसके बाद पुलिस द्वारा उक्त महिला को श्रीनगर के श्रीकोट से सकुशल बरामद कर लिया गया। उन्होंने कहा कि उक्त महिला को उनके परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया है जिसके बाद परिजन द्वारा जनपद व पाबौ पुलिस की जमकर सराहना की गई। महिला को सकुशल बरामद करने की टीम में हेड कांस्टेबल बारू दत्त शर्मा शामिल रहे।

error: Content is protected !!