पुरानी पेंशन बहाली को लेकर तीन दर्जन से अधिक कार्मिकों के संगठन दिल्ली के रामलीला मैदान में जमकर गरजे,उठाई पुरानी पेंशन बहाली की मांग

0
148

रिपोर्ट/मुकेश बछेती

दिल्ली/देहरादून(पहाड़ ख़बरसार)पुरानी पेंशन बहाली के लिए आज पूरे देश से 3 दर्जन से अधिक कार्मिकों के संगठनो ने दिल्ली के रामलीला मैदान में एक महारैली का आयोजन किया जिसमें 5 लाख से अधिक कार्मिकों ने प्रतिभाग किया। राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा द्वारा भी इस में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया गया। राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा उत्तराखंड से हजारों कार्मिक इस महारैली में शामिल हुए। आज दिल्ली की सड़कों में कर्मचारियों का सैलाब उमड़ पड़ा और जिसने साफ संकेत दे दिया कि अब कार्मिक किसी भी हालत में आर पार की लड़ाई लड़ने को तैयार हैं। रामलीला मैदान से अपने संबोधन में राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी पी सिंह रावत ने कहा कि अब वक्त आ गया है कि सरकार को कोई ना कोई निर्णय लेना होगा। आज कार्मिक आक्रोश में है और अपने हक की लड़ाई के लिए सड़कों पर उतर चुका है। यदि उसकी एक प्रमुख मांग पुरानी पेंशन को यदि केंद्र सरकार नहीं मानती है तो इसका खामियाजा सरकार को आगामी लोकसभा चुनाव में भुगतना होगा। इस महारैली में रेलवे, डाक विभाग, ऑल इंडिया मजदूर संघ, प्राथमिक शिक्षक संघ, मध्यमिक शिक्षक संघ, जूनियर शिक्षक संघ सहित देश के विभिन्न संगठनों के कार्मिकों ने अपनी एकता का परिचय दिया। पूरा रामलीला मैदान कार्मिकों के सैलाब से भर चुका था और कार्मिकों को सड़कों पर खड़ा होना पड़ा। उत्तराखंड से राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहली संयुक्त मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष जयदीप रावत, प्रदेश महासचिव सीताराम पोखरियाल, प्रदेश प्रभारी विक्रम सिंह रावत, प्रदेश प्रवक्ता लक्ष्मण सिंह रावत, जिला अध्यक्ष पौड़ी भवान सिंह नेगी, जसपाल सिंह गुसाईं, राजीव उनियाल, राकेश रावत, सुनीता गुसाईं, प्रवीण घिल्डियाल, शंकर भट्ट, रणवीर सिंह, अंकित रौथान, अर्जुन राणा, रणबीर सिंह सिंधवाल, हंसी नेगी, सोहन सिंह माझिला, गिरीश पनेरु, कुमाऊं मण्डल अध्यक्ष योगेश घिल्डियाल, दिलबर सिंह रावत, विपिन नौटियाल, बंटी, माखनलाल शाह, लक्ष्मण सिंह सजवान, बबीता रानी, जीवंती नेगी, नागेश नौडियाल, विवेक सैनी, विजय गुसाईं, दिनेश नेगी, अजीत नेगी, जगत सिंह, डॉ बृजमोहन सिंह रावत, अमित ममगाईं, दीप जोशी, आदि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here