पाबौ में राष्ट्रीय जन्मजात विकृति जागरूकता माह अभियान के अंतर्गत किया जा रहा अभिभावकों को जागरूक

0
43

रिपोर्ट/मुकेश बछेती

पौड़ी/पाबौ(पहाड़ ख़बरसार) राष्ट्रीय जन्मजात विकृति जागरुकता माह के अंतर्गत आज पाबौ में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा चलाए जा रहे राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत क्लबफुट जैसे अन्य जन्मजात बीमारी जैसे जन्मजात हृदयरोग, जन्मजात मूक-बधिर, कटे होठ-फटे तालू, जन्मजात मोतियाबिंद एवं 32 दोषों की स्क्रीनिंग व इन रोगों के सम्बंध में जानकारी बच्चों के अभिभावकों को दी जा रही है।


आरबीएसके टीम के डॉ संजय उनियाल ने बताया कि जन्मजात विकृति जागरुकता माह के अंतर्गत पाबौ ब्लॉक में बच्चों के अभिभवकों को क्लब-फुट से सम्बंधित जानकारी व इसके उपचार की जानकारी उनकी टीम द्वारा लगातार दी जा रही है।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पाबौ प्रभारी डॉ रमेश कुँवर ने बताया कि जन्मदोष जन्म के समय मौजूद संरचनात्मक परिवर्तन हैं, जो हृदय, मस्तिष्क, पैर जैसे शरीर के लगभग किसी भी हिस्से को प्रभावित कर सकते हैं। वे शरीर के दिखने, काम करने के तरीके या दोनों को प्रभावित कर सकते हैं। ऐसी ही एक जन्मजात विकृति का प्रकार है “क्लबफुट”, जिससे की हर 1000 नवजात में से एक बच्चा प्रभावित हो सकता है। उन्होंने बताया कि देश में हर साल 33 हजार बच्चे इस विकृति के साथ पैदा होते हैं।
उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा चलाए जा रहे राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत क्लबफुट जैसे अन्य जन्मजात बीमारी जन्मजात हृदयरोग, जन्मजात मूक-बधिर, कटे होठ-फटे तालू, जन्मजात मोतियाबिंद एवं 32 दोषों की स्क्रीनिंग की जाती है, ताकि जल्द से जल्द उचित एवं निःशुल्क उपचार प्राप्त कराया जा सके। इस दौरान राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम की सदस्य रेखा नेगी भी मौजूद रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here